अजित गुप्ता का कोना

साहित्‍य और संस्‍कृति को समर्पित

मेरी अंगुली की स्याही ही मेरा लोकतंत्र है

Written By: AjitGupta - Apr• 29•19

एक जमाना था जब अंगुली पर स्याही का निशान लगने पर मिटाने की जल्दी रहती थी लेकिन एक जमाना यह भी है कि अंगुली मचल रही है, चुनावी स्याही का निशान लगाने को! कल उदयपुर में वोट पड़ेंगे, तब जाकर कहीं अंगुली पर स्याही का पवित्र निशान लगेगा। देश में लोकतंत्र है, इसी बात का तो सबूत है यह निशान! सदियों से मानवता लोकतंत्र के लिये तड़पी है, कभी राजाशाही तो कभी तानाशाही और कभी गुलामी! अब जाकर कहीं लोकतंत्र आया है। विवाहित महिलाओं के पास सिंदूर होता है, बताने को की हम विवाहित हैं और अंगुली की स्याही बताती है कि हम ना केवल स्वतंत्र है अपितु हमारे देश में लोकतंत्र हैं। हमारे पास भी वे सारे ही अधिकार हैं जो कभी एक राजा के पास हुआ करते थे। जब भगवान के मन्दिर जाते हैं तो माथे पर कुमकुम जरुर लगाते हैं, बाहर निकलकर हमारा कुमकुम ही इतराकर बता देता है कि हम मन्दिर गये थे। बस ऐसी ही चुनाव की स्याही है, जो हमारे हाथ में लगती है और इतराती है। कभी मन्दिर जाने का अधिकार छीनकर देख लो, मन कैसे छटपटाता है? राजा रवि वर्मा बहुत बड़े चित्रकार हुए, उन्होंने अपने चित्रों की छपाई करा दी। देवी-देवता के चित्र अब बाजार में मिलने लगे थे। करोड़ों ऐसे लोग थे जिन्हें मन्दिर में प्रवेश नहीं मिला था। उन लोगों ने पहली बार चित्र के माध्यम से भगवान को देखा और अपने घर में लगाकर पूजा की। लोग भाव विह्वल हो रहे थे, अपने जीवन को धन्य मान रहे थे। ऐसे ही जब पहली बार लोगों को राजा की जगह अपना नेता चुनने का अवसर मिला तो लोग भाव विह्वल हो गये थे। वे अपनी अंगुली पर लगी स्याही को देख रहे थे, उसे चूम रहे थे और लोगों को दिखा रहे थे कि देखो हमारे पास भी अब अधिकार है।
जरा सोचिये, यदि मन्दिर प्रवेश का अधिकार सभी को होता तो क्या राजा रवि वर्मा की पेंटिंग को लोग खरीदते? क्या उन पेंटिंग को अपने घर में लगाकर पूजते? नहीं कभी नहीं करते। सभी को अधिकार मिलते ही अधिकार की चाहत ही समाप्त हो जाती है। जैसे लोकतंत्र मिला और सभी को वोट का अधिकार मिला तो चाहत ही समाप्त हो गयी। कुछ लोग बेपरवाह हो गये, जैसे मन्दिर में नहीं जाना फैशन बन गया है वैसे ही वोट नहीं डालना भी फैशन बन गया है। मन्दिर से दूर हो गये, भगवान से दूर हो गये, हमारी स्लेट कोरी होती गयी और फिर किसी ने कहा कि यहाँ चादर चढ़ा दो तो चादर चढ़ा दी। हमें पता ही नहीं कि हम कहाँ चादर चढ़ा आए। किसी ने कहा कि इस चर्च में जाकर आ जाओ, हम जा आए। हमें पता ही नहीं हम वहाँ क्यों गये थे! बस हमारी स्लेट खाली थी तो हम चले गये और फिर सेकुलर बनकर अपनों का ही कत्ल करने लगे। श्रीलंका का ताजा उदाहरण है हमारे सामने। ऐसे ही वोट डालने में हुआ। वोट नहीं डालना फैशन बन गया, बड़ी ठसक से कहते हैं कि हम वोट नहीं डालते! हम मन्दिर नहीं जाते – हम वोट नहीं डालते। तुम चादर तो चढ़ा आते हो, फिर मन्दिर क्यों नहीं? ठीक है हम वोट डालने जाएंगे लेकिन नोटा दबाकर आएंगे। हमें तुम्हारे लोगों पर विश्वास ही नहीं है, हम तुम्हारी किसी व्यवस्था पर विश्वास ही नहीं रखते। 
मुगल काल में मन्दिर तोड़ने और एक-एक मूर्ति को विध्वंस करने में कितना समय लगा था? कितना विरोध हुआ था? जब भगवान को मानते ही नहीं और मन्दिर जाते ही नहीं तो तोड़ने दो, हमारा क्या जाता है? ऐसे ही जब तानाशाही या राजशाही पुन: लोकतंत्र पर शिकंजा कस लेगी तब कहेंगे कि हमें क्या? कोई नृप हो, हमें का हानि! स्वतंत्रता और परतंत्रता का जिन्हें अन्तर नहीं पता वे वोट देने का मखौल उड़ाते हैं, नोटा दबाने की बात करते हैं। कैसा भी नेता है, तुम्हारे देश का और लोकतंत्र का प्रहरी है, लेकिन यदि लोकतंत्र ही नहीं रहेगा तो चाहे ईस्ट इण्डिया कम्पनी वापस आए या फिर मुगल साम्राज्य? लेकिन कुछ लोगों को अपनी अंगुली पर स्याही का निशान फबता नहीं है, लोकतंत्र का निशान उन्हें जँचता नहीं है। ये शायद गुलाम वंश के लोग हैं, जो हमेशा गुलामी में रहने को ही सुख कहते हैं। लेकिन हमारे लिये तो यह स्याही अमूल्य स्याही है, इसे लगाकर कुमकुम के तिलक जैसा अनुभव करेंगे। स्याही को भगवान को भी दिखाएंगे और कहेंगे कि हे भगवान! हमें और हमारी पीढ़ियों को कभी भी इस स्याही से वंचित मत करना। स्याही ही लोकतंत्र का प्रतीक है। मेरी अंगुली पर लगी स्याही मेरा अभिमान है, मेरा स्वाभिमान है, मेरी स्वतंत्रता है और मेरा लोकतंत्र है। जो भी इस स्याही की इज्जत नहीं करता वह हमारे स्वाभिमान का हन्ता है, हमारे लोकतंत्र का नाशक है। प्रभु इनको सद्बुद्धि देना और हमारी रक्षा करना।

You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

One Comment

  1. सुमन says:

    समसामयिक लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *