अजित गुप्ता का कोना

साहित्‍य और संस्‍कृति को समर्पित

रौल विंसी इमेज खत्म करने के अखाड़े में

Written By: AjitGupta - May• 04•19

कौन कहता है कि राहुल गाँधी उर्फ रौल विंसी कमअक्ल हैं? हो भी सकता है कि कमअक्ल हों लेकिन इस गुड्डे में चाबी भरने वाला जरूर अक्लवान है। मतलब यह है कि दोनों में से एक तो चतुर है ही। अब रौल विंसी कह रहे हैं कि मोदी की ताकत उनकी इमेज है, मैं इसे खत्म कर दूंगा! व्यक्ति में क्या रखा है, व्यक्ति तो हम भी है लेकिन हमारी इमेज क्या है? नक्कारखाने में तूती के समान! लेकिन मोदी की इमेज क्या है, सारे विश्व को प्रकाशित करने वाले सूर्य के समान। अब यदि रौल विंसी सूर्य के सामने बादल बनकर खड़े हो जाएं तो क्या सूर्य की इमेज खत्म हो जाएगी? कभी नहीं होगी। लेकिन उनकी सोच ठीक है, वे समझ चुके हैं कि उनकी इमेज बहुत बड़ी है और इसे कम करने के लिये झूठ दर झूठ बोलना ही होगा। वे लगातार झूठ बोल रहे हैं, अपने हर भाषण में निम्न स्तर का झूठ बोल रहे हैं, कभी ना कभी तो पत्थर पर लकीर पड़ेगी ही ना! इस चक्कर में उनकी खुद की इमेज दो कौड़ी की हो गयी है लेकिन बन्दे को चिन्ता नहीं। क्योंकि वह जानता है कि उसकी इमेज तो दौ कौड़ी की ही है तो अब और क्या कम होगी! लेकिन यदि मैंने मोदी की इमेज को दो-चार प्रतिशत भी कम कर दिया तो वाद-विवाद का विषय तो रहेगा ही और मेरे चेले-चामटों को तो भौंकने का मकसद बना ही रहेगा। 
भारत में रामायण और महाभारत ऐसे ग्रन्थ हैं जिनका सानी आजतक कोई नहीं है। लेकिन इनके पात्र राम और कृष्ण साक्षात महापुरुष थे तो इनकी छवि दुनिया में सूर्य जैसी ही थी। अब उस दौर में भी रौल विंसी पैदा हो गये और उनने कहा कि राम और कृष्ण की इतनी बड़ी इमेज होना घातक है, कोई दूसरा धर्म इनके आगे पनपेगा ही नहीं तो इमेज को कम करो। रामायण में सीता की अग्नि परीक्षा और वनवास जोड़ दिया और महाभारत में कृष्ण की रासलीला जोड़ दी। बस हो गया वाद-विवाद का सिलसिला शुरू। व्यक्ति सबसे पहले इमेज पर ही वार करता है। घर में देख लीजिए, कोई अच्छा व्यक्ति है तो सुनने में आ जाएगा कि क्या खाक अच्छा है, उसने ऐसा किया और वैसा किया! कोई बन्दा अच्छा रहना ही नहीं चाहिए। समाज में ऐसे निन्दक लाखों मिल जाएंगे जो बस केवल निन्दा ही करते हैं। जो किसी की इमेज खराब करने निकल पड़ा है, समझो वह शिशुपाल के अतिरिक्त कुछ नहीं है। उसने खुद सिद्ध कर दिया है कि मोदीजी का व्यक्तित्व इतना बड़ा है कि उस पर प्रायोजित प्रहार करने की जरूरत है। कुछ लोग कहते हैं कि नेहरू-गाँधी वंश की इमेज को भी खत्म करने का प्रयास निरन्तर किया गया और परिणाम स्वरूप आज कांग्रेस दूसरों की उड़ती पतंग पर केवल लंगर डाल रही है! 
नेहरू-गाँधी खानदान की इमेज और मोदी की इमेज में अन्तर क्या है? जबरन कब्जाई गयी इमेज और स्वत: बनी इमेज में जो अन्तर होता है बस वही अन्तर दोनों की इमेज में है। नेहरू की अचानक ही लोटरी निकल आती है और वह भारत का चक्रवर्ती सम्राट घोषित हो जाता है, तब नेहरू के संघर्ष की कोई इमेज नहीं थी, बस अंग्रेजों और गाँधी के कारण देश की बागडोर मिल गयी थी। तब प्रारम्भ हुआ था नेहरू के द्वारा सुभाष की इमेज खत्म करने का खेल, सरदार पटेल की इमेज खत्म करने का खेल। देश के सारे ही क्रांतिकारियों की इमेज खत्म करने का खेल। इतिहास में जब भी कमजोर राजा शासन पर बैठा है तब यही खेल शुरू हुआ है। नेहरू ने यह खेल खेला, फिर अचानक ही लाल बहादुर शास्त्री पिक्चर में आ गये। उनकी इमेज बड़ी दिखने लगी। इन्दिरा जी ने फिर इमेज धोने का प्रयास प्रारम्भ कर दिया। मोरारजी देसाई की इमेज बड़ी दिखने लगी तो उनकी खराब करने का खेल खेला गया। यह क्रम लगातार चलता रहा। बीच-बीच में शासक आते गये और नरसिंहाराव जैसे मौनी शासक ने भी अपनी थोड़ी बहुत इमेज बना ली तो उसे भी सोनिया गाँधी ने मिटाने के लिये रबर अपने हाथ में ले लिया। देश में चारों तरफ एक ही नाम सुनाई पड़ता है नेहरू-गाँधी खानदान। 
लेकिन कब तक बौना शासक गद्दी पर बैठकर राज करता रहेगा, कभी ना कभी तो सुदृढ़ शासक आएगा ही। बस इस बार मोदी का नम्बर था। मोदी ने सारे ही रिकोर्ड तोड़ दिये। उनकी इमेज देश से निकलकर विश्व में छा गयी, सारी दुनिया उन्हें मानने लगी। यह चुनाव एकतरफा लगने लगा तो भला अमरबेल सा फलता फूलता गाँधी परिवार कैसे अपनी चाल से विलग हो जाता। उनके पास एक ही चाल है कि दूसरे की इमेज खराब करो, बस तुम्हारा काम चलता रहेगा। रौल विंसी उतर आए अखाड़े में, रोज नये झूठ के साथ। एक टोली बना ली गयी कि मैं एक झूठ उछालूंगा और तुम सारे ही जोर लगाकर हयस्या बोलना। रोज-रोज पत्थर पर रस्सा घिसोगे तो निशान पड़ेगा ही। बस जुट गये हैं रौल विंसी। लेकिन वे यह भूल गये हैं कि इमेज खऱाब करते-करते कब उनका असली चेहरा देश के सामने आ गया! वे कल तक राहुल गाँधी बनकर देश को भ्रमित कर रहे थे लेकिन अचानक ही उनके चेहरे से नकाब उतर गया और वे रौल विंसी के असली रूप में प्रकट हो गये! मोदी की इमेज तो सूर्य जैसी है लेकिन तुम्हारे पूरे खानदान की इमेज तो छद्म आवरण में लिपटी है, कभी दुनिया के एकमात्र नेहरू तुम बन जाते हो और कभी गाँधी बन जाते हो। बहुरूपिया भी संन्यासी की इमेज खत्म करने को चला है! तुम्हारा खेल तो अच्छा है लेकिन मोदी की इमेज तुम्हारे जैसी उधार की नहीं है जो खत्म हो जाए। तुम जितना पत्थर फेंकोगे आगला उन पत्थरों की सीढ़ी बनाता हुआ ऊपर चढ़ता ही जाऐगा। तुम अपना खेल जारी रखो और मोदी आकाश छूने का प्रयोग जारी रखेंगे। तुम्हारे नाम का नकाब तो उतर ही चुका है देखना कहीं नागरिकता का नकाब भी नहीं उतर जाए?

You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *