अजित गुप्ता का कोना

साहित्‍य और संस्‍कृति को समर्पित

Archive for August 15th, 2017

जीवन्त जीवन ही खिलखिलाता है

आधा-आधा जीवन जीते हैं हम, आधे-आधे विकसित होते हैं हम और आधे-आधे व्यक्तित्व को लेकर जिन्दगी गुजारते हैं हम। खिलौने का एक हिस्सा एक घर में बनता है और दूसरा हिस्सा दूसरे घर में। दोनों को जोड़ते हैं, तो ही पूरा खिलौना बनता है। यदि दोनों हिस्सों में कोई भी त्रुटी रह जाए तो जुड़ना […]

Read the rest of this entry »