अजित गुप्ता का कोना

साहित्‍य और संस्‍कृति को समर्पित

Archive for September 1st, 2018

जनता तुम्हारा नोटा बना देगी

हमने पिताजी और माँ के जीवन को देखा था, वे क्या करते थे, वह सब हमारे जीवन में संस्कार बनकर उतरता चला गया। लेकिन जिन बातों के लिये वे हमें टोकते थे वह प्रतिक्रिया बनकर हमारे जीवन में टंग गया। प्रतिक्रिया भी भांत-भांत की, कोई एकदम नकारात्मक और कोई प्रश्नचिह्न लगी हुई। जब हवा चलती […]

Read the rest of this entry »