अजित गुप्ता का कोना

साहित्‍य और संस्‍कृति को समर्पित

बैताल को ढोता विक्रमादित्य

मेरे अन्दर मेरी अनूभूति को समेटने का छोटा सा स्थान है, वह शीघ्र ही भर जाता है और मुझे बेचैन कर देता है कि इसे रिक्त करो। दूध की भगोनी जैसा ही है शायद यह स्थान, जैसे ही मन की आंच पाता है, उफन जाता है और बाहर निकलकर बिखर जाता है। मैं कोशिश करती […]

Read the rest of this entry »