अजित गुप्ता का कोना

साहित्‍य और संस्‍कृति को समर्पित

तेरा अब न्याय होगा

Written By: AjitGupta - Apr• 21•19

कोई किसी महिला से पूछे कि तेरा नाम क्या है? तेरा उपनाम क्या है? तेरा देश क्या है? तो महिला सोचने का समय लेगी। क्यों लेगी! इसलिये लेगी कि विवाह के बाद उसका कहीं नाम बदल जाता है, उपनाम तो बदल ही जाती है और कभी देश भी बदल जाता है। इसलिये वह सोचती है कि कौन सा नाम बताऊँ, कौन सा उपनाम बताऊँ और कौन सा देश बताऊँ! लेकिन कल अचानक ही एक पुरुष की बेबसी देखी, अरे पुरुष होकर भी ऐसी बेबसी से गुजर रहा है! मन को थोड़ा सुकून भी मिला कि चलो, पुरुषों के पास भी ऐसी बेबसी आ जाती है, हम तो सोचते थे कि मासिक धर्म की तरह यह समस्या केवल हमारी ही है। सम्भ्रान्त राजपुरुष के सामने यह प्रश्न सुरसा के मुँह की तरह विकराल रूप लेने लगा, बता तेरा नाम क्या है? बता तेरा उपनाम क्या है? बता तेरा देश क्या है? पुरुष ने सीना चौड़ा नहीं किया अपितु सिकुड़ लिया, मिमियां कर बोला की दो दिन दो, सोचकर बताता हूँ। अबे इसमें सोचना क्या है, तेरी शादी नहीं हुई जो कह दे कि घर जमाई हूँ और नाम-उपनाम-देश सब बदल गया है! ना तो किसी के गोद गया है जैसे तेरे दादा ने गोद का उपनाम ले लिया था! फिर समस्या क्या है?

समस्या भारी है, कौन देश का तू है, तेरा नाम भी उसी देश का है, तेरी शिक्षा भी उसी देश की है लेकिन तू राजनीति धमाचौकड़ी इस देश में कर रहा है! महिने में दस दिन इस देश में और बीस दिन अपने देश में रहता है लेकिन तेरा सुरक्षा कवच इतना मजबूत है कि कोई तुझ से प्रश्न नहीं पूछता! जैसे ही तुझसे किसी ने कुछ पूछा तेरे पालतू सारे कुत्ते एक साथ भौंकने लगते हैं और उस शोर में प्रश्न दब जाता है। तू ने आजतक कई चुनाव भी लड़ लिये, अपनी शिक्षा का दस्तावेज भी दिखाया ही होगा लेकिन किसी ने नहीं पूछा कि भारत में तेरा नाम और दस्तावेजों में तेरे नाम में अन्तर क्यों हैं? हमारे बच्चे भी विदेश पढ़े हैं लेकिन उनका एक ही नाम है, फिर क्या वे दूसरे नाम से यहाँ चुनाव लड़ सकते हैं। दोहरी नागरिकता से जब वोट तक नहीं डाल सकते तो तू तो चुनाव लड़ भी रहा है और प्रधानमंत्री तक के सपने देख रहा है। फिर चिल्ला-चिल्लाकर कह रहा है कि इस देश का प्रधानमंत्री चोर है। अपनी चोरी छिपाने को तू देवता को चोर कह रहा है! जैसे एक लम्पट पति अपनी सती-सावित्री पत्नी को कुल्टा कहता है वैसा ही आचरण तेरा है। तेरे पास भौंकने वाले कुत्ते हैं तो तू कुछ भी करेगा! नहीं, अब ऐसे नहीं चलेगा। देश को बताना ही होगा कि तेरा नाम क्या है? तेरी असलियत क्या है? यदि इस बार भी तू बच निकला तो समझ ले कि गेंद प्रकृति के पास जाएगी और फिर प्रकृति का न्याय होगा। क्योंकि शाश्वत प्रकृति ही है, ना संस्कृति शाश्वत है और ना ही विकृति शाश्वत है। किसी भी झंझावात में सबकुछ विनष्ट हो जाएगा बस मूल स्वरूप में प्रकृति ही शेष रहेगी। बहुरूपिये का जीवन ज्यादा दिन नहीं टिकता, फिर तूने तो ऐसे व्यक्ति पर कीचड़ उछाला है जो पूजनीय  है। साध्वी का उदाहरण भी देख ले, किरकिरे की कैसी किरकिरी हो रही है। दिग्गी की भी और तेरी भी ऐसी मिट्टी पलीद होगी की तू ने सपने में भी नहीं सोचा होगा। जब कोई किसी एक व्यक्ति पर कीचड़ उछालता है तो प्रकृति थोड़ा रुष्ट होती है लेकिन जब कोई किसी कौम को ही बदनाम करने की ठान लेता है तब जलजला आने लगता है, अब जलजले का समय शुरू हो गया है। इस जलजले में तेरा न्याय भी होगा और दिग्गी समेत तेरे सारे भौंकने वालों का न्याय होगा। आखिर समय कब तक तेरा साथ देगा। तू ने पाप ही इतने कर डाले हैं कि अब न्याय होकर रहेगा। तू न्याय का ठेकेदार बनना चाहता है ना, अब देख ना तेरा न्याय क्या होगा!

अब न्याय होगा?

Written By: AjitGupta - Apr• 18•19

किसी ने न्याय को देखा है क्या? विकास को भी तो नहीं देखा था ना! प्रजा के किसी अदने से बंदे ने राजा को ललकार दिया, तत्काल सर कलम कर दिया गया, राजा ने कहा कि हो गया न्याय! न्याय का निर्धारण राजा की पसन्द से होता है। जो राजा के हित में हो बस वही न्याय है। 1975 याद है ना, शायद नौजवानों को खबर नहीं लेकिन हम जैसे लोगों के तो दिलों में बसा है, भला उस न्याय को कैसे भूल सकते हैं! न्यायाधीश ने न्याय किया कि तात्कालीन प्रधानमंत्री ने चुनाव गलत तरीकों से जीता है लेकिन प्रधानमंत्री तो खुद को राजा मानती थी तो आपातकाल लगाकर, सारे विपक्ष को जैलों में ठूसकर, मीडिया की बोलती बन्द कर के न्याय हुआ। तब भी कहा गया कि अब न्याय हुआ। 1984 भी याद होगा! पेड़ के गिरने से धरती हिल जाती है और राजा की मृत्यु से निरपराध कौम का सरेआम कत्लेआम भी न्याय ही कहलाया था, तब भी कहा गया था कि अब न्याय हुआ। न्याय के कितने ही किस्से हैं जब एक वंश ने अपने हित में न्याय किया। लेकिन न्याय करते-करते प्रजा को समझ आने लगा कि यह न्याय एकतरफा है। जैसे ही प्रजा की समझ बढ़ी, वंश का शासन नेपथ्य में चले गया। अब फिर चुनाव आया है और नारा दिया है – अब न्याय होगा! मुझे एक-एक कर सारे ही न्याय याद आने लगे हैं। सीताराम केसरी के प्रति भी न्याय याद आ रहा है, मेनका गाँधी के प्रति भी न्याय याद आ रहा है, लाल बहादुर शास्त्री के प्रति भी न्याय याद आ रहा है। सरदार पटेल, राजेन्द्र प्रसाद, नरसिंह राव, सुभाष चन्द्र बोस, सावरकर न जाने कितने नाम है वे सारे ही न्याय याद आ रहे हैं।

खुली चेतावनी दी गयी है, अब न्याय होगा! खुली चेतावनी दी जा रही है कि एक सम्प्रदाय एकत्र हो जाए और बहुसंख्यक समाज को न्याय दें सकें। पाकिस्तान से हाथ मिलाया जा रहा है, चीन के भी फेरे लगाये जा रहे हैं, बस इसी न्याय के लिये। आतंकवाद को पनाह दी जा रही है, मासूम प्रजा को न्याय देने के लिये। कभी चायवाला तो कभी दलित तो कभी महिला को निशाना बनाया जा रहा है कि सत्ता पर इनकी जुर्रत कैसे हुई बैठने की, अब न्याय होगा। खुले आम कहा गया कि देश को सेवक नहीं शासक चाहिये क्योंकि शासक ही तो न्याय कर सकता है। सैना को भी औकात बतायी जा रही है कि हम जैसे शासकों के साथ रहो, जो हम चाहते हैं उसी  पक्ष में खड़े रहो, हम ही तय करेंगे कि देश की सीमा क्या हो! हमने ही पहले देश की सीमा तय की थी, हमने ही पाकिस्तान बनाया था, हम चाहेंगे कि कश्मीर भी अलग देश बने इसलिये सैना को हमारे ही पक्ष में खड़ा रहना है, अब सैना का न्याय भी हम करेंगे।

अब न्याय होगा! प्रजा को समझ लेना है कि कैसा न्याय होगा! लोकतंत्र के खोल में राजाशाही का खेल होगा। राजवंश पूर्णतया सुरक्षित रह सके, इसके लिये न्याय होगा। राजवंश एक ही समय में ब्राहण बने या मुस्लिम बने या फिर ईसाई, किसी को प्रश्न पूछने का अधिकार नहीं होगा, यदि कोई पूछेगा तो फिर न्याय होगा। जनता को हर पल अनुभव कराया जाएगा कि वह गुलाम प्रजा है, उसे चौबीस घण्टे बिजली और पानी की जरूरत नहीं है, उसे गुलाम प्रजा की तरह रहना सीखना ही होगा, नहीं तो न्याय होगा। सबके लिये विकास की बात करने वालों के प्रति न्याय होगा। हमारे वंश के चिरागों को ही प्रथम परिवार मानना होगा, नहीं तो न्याय होगा। हम शासक हैं यह बात सम्पूर्ण जनता को माननी ही होगी, नहीं तो न्याय होगा। राजा के दरबारी खुश हैं कि अब हमें भी लूट का माल मिलेगा, झूठन मिलेगी, गाड़ी में ना सही, गाडी के पीछे लटकने का अवसर मिलेगा, तो दरबारी खुश हैं। वे भी चिल्ला रहे हैं कि अब न्याय होगा। सब खुश हो रहे हैं, नाच रहे हैं कि अब न्याय होगा! हम राजस्थान में बैठकर घण्टों जाती बिजली को देखकर समझ गये हैं कि अब न्याय हो रहा है। हमें समझ आने लगा है कि प्रजा क्या होती है और राजा क्या होता है। हम भी अब न्याय होगा के मंत्र को दोहराने लगे हैं और खुद को गुलाम बनाने की ओर मुड़ने लगे हैं। चुनाव के नतीजे बताएंगे कि अब न्याय होगा या फिर जनता सबल बनकर राजा को सेवक धर्म का स्मरण कराती रहेगी!

इस बार वोट पकौड़ों के नाम

Written By: AjitGupta - Apr• 05•19

कहावत है कि दिल्ली दिलवालों की है, जब दिलवालों की ही है तो चटपटी होना लाजमी है। चटपटी कहते ही चाट याद आती है और चाट के नाम से ही मुँह में पानी आता है। मुँह में पानी आता है मतलब आपकी स्वाद ग्रन्थियाँ सक्रिय हो रही हैं। स्वाद ग्रन्थियाँ सक्रिय होती है तो जो भी खाया जाता है उसका पाचन आसान हो जाता है। अब इतिहास देखते हैं – दिल्ली साठ बार उजड़ी और इतनी बार ही बसी। कल एपिक चैनल देखते हुए बताया गया कि जब शाहजहाँ ने वापस दिल्ली को बसाया तो एक मंत्री ने उन्हें कहा कि आपने दिल्ली को बसा तो दिया है लेकिन यमुना का पानी तो पेट के लिये बहुत भारी है। अब! कोई उपाय शेष नहीं था, दिल्ली तो बस चुकी थी, लोगों के पेट भी खराब होने लगे थे। तब अनुभवी लोगों ने कहा कि यमुना के पानी से बचाव का एक तरीका है, हमारे खाने में चटपटे मसालों का समावेश होना चाहिये साथ में ढेर सारा घी। बस फिर क्या था, खट्टी-मीठी चटनियाँ बनने लगी, सब्जियाँ घी में बनने लगी। धीरे-धीरे चाट का स्वाद दिल्लीवालों की जुबान पर चढ़ने लगा। पुरानी दिल्ली चाटवालों से भर गयी, खोमचेवाले आबाद हो गये। यहाँ तक की पराँठेवाली गली तक बन गयी। आलू के पकौड़े, गोभी के पकौड़े, प्याज के पकौड़े, पनीर के पकौड़े, बस पकौड़े ही पकौड़े! हर खोमचेवाला कहता कि मेरी चाट नायाब है, बात सच भी थी क्योंकि सभी की चाट में कुछ ना कुछ अलग था। गली-गली में खोमचें वाले बिछ गये, जहाँ देखो वहाँ ठेले सज गये।
शाहजहाँ के दरबार में यमुनाजी के पानी को लेकर जो चिन्ता थी वह दूर हो गयी थी। लोगों को चाट का स्वाद इतना भा गया था कि अब बिना चाट के गुजारा ना हो। आज की दुनिया में जहाँ पानी के शुद्धिकरण के कई उपाय हैं लेकिन चाट को अपने जीवन के हटाने का कोई उपाय शेष नहीं है। दिल्ली जाइए, आप कितना भी कह दें कि सुबह नाश्ते में पकौड़े नहीं चाहिये लेकिन पकौड़े तो बनेगें ही और आप खाएंगे ही। लेकिन एक दिन अचानक ही एक बात हवा में तैरने लगी कि पकौड़े बनाना तो काम-धंधे की श्रेणी में ही नहीं आता। दिल्ली का वजूद तो पकौड़े के कारण ही है, यहाँ न जाने कितने परिवार इसी धंधे में करोड़पति हो गये, अब कहा गया कि यह तो धंधा ही नहीं है। तो धंधा क्या होता है सिरफिरे भाइयों? राजा द्वारा बांटी गयी मुफ्त की खैरात पर पलने का नाम धंधा है जो अभी तुम्हारे आका ने घोषित किया है कि मेरा राज आएगा तो सभी को खैरात मिलेगी। अरे छोड़िये राजनीति की बात, कहाँ चाट का मजा आ रहा था और कहाँ पकौड़े याद आ गये और पकौड़े याद आते ही लोगों की जहर बुझी बातो याद आ गयी। बस जुबान का स्वाद ही खराब हो गया। अभी कुछ दिन पहले की ही बात है, एक रेस्ट्रा में गये, स्टार्टर देखे, लेकिन कोई भी पसन्द का नहीं था। पूछा कि पकौड़े टाइप कुछ है क्या? मासूम सा मुँह बनाकर मना कर दिया, मुझे लगा कि यह कमबख्त भी पकौड़े को लेकर दुश्मनी निकालने वालों में से दिखता है! अब भारत में तो पकौड़े ही चलते हैं, भाँत-भाँत के पकौड़े, हर मौसम में खिला लो, पसीने बहते जाएंगे लेकिन पकौड़े के लिये कोई मना नहीं करेगा। भारी पानी की ऐसी की तैसी, पकौड़े के साथ खट्टी-मीठी चटनी तो पेट सही ही सही। 
अब राजनीति करने वालों देख लो तुम्हारे आका कितने ज्ञानवान हैं! जिस दिल्ली की बुनियाद ही चाट-पकौड़े पर पड़ी हो, वहाँ यह कहना कि पकौड़े बनाना भी कोई धंधा होता है, है ना बेवकूफी की पराकाष्ठा! लेकिन चुनाव आ गये हैं, ऐसे अक्ल के पैदल लोगों को जवाब देने का समय आ गया है। पकौड़े खाइए, पकौड़े को धंधा बनाइए और जो पकौड़ों की खिल्ली उड़ाए उसे लात मारिये। समझ गये ना। दिल्ली दिलवालों की ही है, दिलजलों की नहीं है। यमुनाजी का पानी पीना है तो पकौड़े खाना ही होगा। इस बार वोट पकौड़ों के नाम। 

भेड़िये ने खाल उतार दी है

Written By: AjitGupta - Apr• 04•19

कल कांग्रेस का घोषणा पत्र घोषित हुआ, बहुत आलोचना हो रही है लेकिन मुझे नया कुछ नहीं लग रहा है। कांग्रेस की राजनीति स्पष्ट है, उनके समर्थक भी भलीभांति समझते हैं इसलिये ही दृढ़ता के साथ उनके पीछे खड़े रहते हैं। राजनीति का अर्थ होता है राज करने की नीति। एक राजनीति होती है – जनता को सुखी और सुरक्षित करने की और दूसरी होती है – स्वयं को सुखी और सुरक्षित करने की। पहली राजनीति लोकतांत्रिक होती है तो दूसरी राजाशाही की ओर इंगित करती है। कांग्रेस की राजनीति दूसरे प्रकार की रही है, स्वयं को सुखी और सुरक्षित करने की। लोकतंत्र में यदि आप राजाशाही घुसाना चाहोंगे तब आपको अपने लिये ऐसे लोगों की आवश्यकता हमेशा रहती है जो शक्तिशाली हों। गुण्डे, मवाली, अराजक तत्व आपके चहेते होने ही चाहिये जिससे आप किसी भी क्रान्ति को कुचल सकें। जैसे आपातकाल में किया गया था या फिर सिखों का नरसंहार कर किया गया था। भारत में लोकतंत्र है और लोकतंत्र में चुनाव होते हैं। अन्दर कैसा भी राजाशाही भेड़िया बैठा हो लेकिन लोकतंत्र में खाल तो भेड़ की ही पहननी पड़ती है। 2019 के चुनाव विस्मयकारी हैं, इस बार भेड़िये ने भेड़ की खाल नहीं पहनी, अपितु स्पष्ट ऐलान किया कि हम भेड़िये हैं और हम केवल स्वयं के लिये राज करना चाहते हैं। इससे पूर्व भी वे संकेत दे चुके थे जब देश के प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं देश का चौकीदार हूँ तब काग्रेंस ने कहा था कि ये देश को चौकीदार देना चाहते हैं जबकि हम प्रधानमंत्री देना चाहते हैं। मतलब उनकी राजनीति स्पष्ट थी। 
पूर्व के चुनावों में राहुल गाँधी कभी जनेऊ पहन रहे थे, कभी यज्ञ कर रहे थे लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं किया। बस सीधे केरल गये और वहाँ से उम्मीदवारी की घोषणा कर दी। अपनी पुरानी खाल को उतार फेंका। अपने समर्थकों को स्पष्ट ऐलान कर दिया कि हम राज करने आए हैं और राज करने में तुम्हारा भी हिस्सा होगा। इसलिये यदि तुम देश के टुकड़े करना चाहोगे तो तुम पर कोई कानूनी कार्यवाही नहीं होगी, यदि तुम देश के एक वर्ग को लूटना चाहोगे तो हमारी स्वीकृति होगी। वे सारे अधिकार दिये जाएंगे जो कभी लुटेरे शासक अपनी सेना को देते आए थे। जैसे ही कांग्रेस ने घोषणा पत्र जारी किया, अराजक तत्व और जिनकी मानसिकता सामान्य जनता पर राज करने की रहती है, वे सारे ही खुशी का इजहार करने लगे। उन्होंने भी अपने चोगे उतार डाले। चारों तरफ एक ही शोर मचा है कि राजा हम तुम्हारे साथ हैं, तुम्हें हम सुखी और सुरक्षित रखेंगे और तुम हमें रखना। यह गरीब जनता हमारी सेवा के लिये है, इसलिये राज करना आपका पुश्तैनी अधिकार है और साथ देना हमारा। पड़ोसी देशों को भी कहा गया कि आपको भी इच्छित प्रदेश मिल जाएगा बस हमारा साथ दो। इतना कहर मचा दो कि देश का प्रधानमंत्री का ध्यान चुनाव से हटकर देश की सुरक्षा की ओर लग जाए। सारे पहलवान अखाड़े में आ जुटे हैं, अपनी ताकत से जनता को गुलाम बनाने निकल पड़े हैं। ये कल तक भी यही कर रहे थे, बस कल तक इनके चेहरे पर लोकतंत्र का नकाब था लेकिन आज यह स्पष्ट घोषणा के साथ अखाड़े में उतर आए हैं। सारे देश के अराजक तत्व एकत्र हो जाओ। तुम हमें राजा बनाओ हम तुम्हें लूटने का अधिकार देंगे। सारा धन, सारा वैभव राजमहल में सीमित करने की घोषणा है। जिसने भी कल तक अपराध किये थे, वे सभी राजाशाही का हिस्सा होंगे, उनपर कोई कानून नहीं लागू होगा। सभी बुद्धिजीवी, कलाकार आदि को खुला निमंत्रण मिल गया है कि तुम हमारे चारण-भाट और हम तुम्हारें रक्षक बन जाएंगे। बस इस अफरा-तफरी के माहौल में कौन टुकड़ों पर मोहताज होना चाहेगा और कौन सर ऊँचा करके जीवन यापन करना चाहेगा, फैसला जनता को करना है। 

अब भगीरथ की बारी

Written By: AjitGupta - Apr• 03•19

टाटा स्काई और नेटफ्लेक्स ने समानान्तर फिल्में बनाकर अपनी दुनिया खड़ी की है। नेटफ्लेक्स का तो मुझे अनुभव नहीं है लेकिन टाटा स्काई की बॉलीवुड प्रीमियर को काफी दिनों से देख रही हूँ। छोटे बजट की छोटी फिल्में बना रहे हैं और कहानी भी हमारी जिन्दगी के आसपास ही घूमती है। परसो एक फिल्म आ रही थी, दस मिनट की ही देख पायी थी लेकिन शुरुआत में ही ऐसा कुछ था जो मेरे कान खड़े करने को बाध्य कर रहा था। माता-पिता को अपनी बेटी की चिन्ता है और उन्हें शक है कि आधुनिक चलन के कारण उनकी बेटी भी लेस्बियन जीवन तो नहीं जी रही है? बेटी बोलती है कि नहीं मेरा ऐसा कुछ नहीं है, माँ लेस्बियन का अर्थ नहीं समझ पाती है तो बेटी समझाती है कि गंगा को धरती पर लाने वाले भगीरथ थे ना! राजा सगर की दो पत्नियाँ थी और वे जो थी उसी की बात कह रही हूँ। माँ भगीरथ के नाम से ही श्रद्धा से गीत गाने लगती है और बेटी को भी गीत गाने को कहती है लेकिन ना माँ समझ पायी कि बेटी क्या कहना चाहती है और ना ही दर्शक समझ पाए होंगे कि धीरे से फिल्म निर्माता ने हमारे पुराण पर प्रहार कर दिया है। ऐसे प्रहार रोज ही किये जाते हैं, कभी हम समझ पाते हैं और कभी नहीं। लेकिन देखते ही देखते कथाएं नवीन स्वरूप लेने लगती हैं और नयी पीढ़ी को भ्रमित करने का सफल प्रयोग किया जाता है। 
एक तरफ साहित्य हमें सभ्यता और संस्कृति से जोड़ता है वही फिल्मी साहित्य हमें फूहड़ता और असभ्यता से जोड़ने की ओर धकेल रहा है। गालियों का प्रयोग इतना भरपूर हो रहा है कि लगने लगा है कि हम किस दुनिया में आ गये हैं! गालियों का प्रभाव तो हम सोशल मिडिया पर देख ही रहे हैं, किसी एक ने गालियों का प्रयोग लेखन में किया और गाली-प्रिय लोग एकत्र होने लगे। देखते ही देखते गालीबाज लोग प्रसिद्ध होने लगे, उनकी देखादेखी दूसरे लोग भी गाली पर उतर आए। अब तो गालियों की संख्या बढ़ती ही जा रही है, सभ्यता को तो हमने किनारे कर दिया है। नेटफ्लेक्स में भी गालियों की भरमार है और टाटा स्काई पर भी। कथानक हमारी जिन्दगी के हर पहलू को छू रहे हैं लेकिन असभ्य तरीके से, इनमें सौंदर्यबोध कहीं नहीं है। ऐसी फिल्मों पर समाज को दृष्टि रखनी होगी। मैं समझ सकती हूँ कि हमारे पुराणों ने सैकड़ों कहानियाँ दी है, हमारा इतिहास भी गौरव गाथाओं से भरा है और टीवी के भी सैकड़ों चैनल आ गये हैं। कौन सा चैनल कब किस चरित्र का चरित्र हनन कर दे, उन पर लगाम लगाना परिश्रम साध्य काम है। लेकिन यह हमें करना ही होगा। हम पहले भी बहुत कुछ बर्बाद कर चुके हैं, तब तो हम कह देते हैं कि हम गुलाम थे इसलिये ऐसा हुआ लेकिन आज तो स्वतंत्र हैं! हम जागरूक भी हैं तो क्यों नहीं अपने विवेक को जागृत करते हैं और ऐसा कुछ फिल्माया गया है तो उस पर निगाह रहे। मैंने केवल दस मिनट की फिल्म देखी थी, नाम भी कुछ अजीब सा था, दोबारा जरूर देखूंगी और फिर समझ पाऊंगी कि फिल्मकार क्या चाहता है? लेकिन यह तय है कि हमारे सीरियल और फिल्में धीरे से वार कर रही हैं, बहुत ही सोची-विचारी रणनीति के अनुरूप ऐसा हो रहा है। एक सीरियल आ रहा है चन्द्रगुप्त मौर्य – इसमें तो पुरातन इतिहास की धज्जियां उड़ा दी गयी है लेकिन समाज का कोई स्वर नहीं उठता है! हम लोग इस विषय में क्या कर सकते हैं, इस पर विचार आवश्यक है। कल तक राम और कृष्ण इनके निशाने पर थे आज गंगा को माँ और पवित्र नदी मानने के कारण भगीरथ पर प्रहार शुरू हुआ है, अभी केवल कंकर फेंका गया है, धीरे-धीरे हमारे पैरों से जमीन ही खिसका दी जाएगी। सावधान!