अजित गुप्ता का कोना

साहित्‍य और संस्‍कृति को समर्पित

Archive for the 'Uncategorized' Category

क्या युद्ध भी आत्महत्या है?

हम युद्ध क्यों करते हैं? एक देश दूसरे देश से युद्ध क्यों करता है? क्या हमें पता नहीं है कि युद्ध में मृत्यु ही प्राप्य है? यदि कोई ऐसा देश हो या छोटा समाज हो जिसकी सम्भावना जीत हो ही नहीं फिर भी वह युद्ध क्यों करता है? अपने स्वाभिमान को बचाने के लिये हम […]

Read the rest of this entry »

मैं इधर जाऊं या उधर जाऊं

जब से अमेरिका का आना-जाना शुरू हुआ है तब से अमेरिका के बारे में लिख रही हूँ, 10 साल से न जाने कितना लिख दिया है और एक पुस्तक भी प्रकाशित हो चुकी है लेकिन जब भी अमेरिका आओ, ढेर सारी नयी बाते देखने को मिलती हैं। मेरा बेटा जब पहली बार अमेरिका आया था […]

Read the rest of this entry »

अकेली वृद्ध महिला

बहुत सी बातें दिल में आती है, दिमाग को भी मथने लगती है लेकिन चलन में कुछ और बातें हैं तो समझ नहीं आता कि क्या लिखा जाए और क्या नहीं। कल जन्मदिन बीत गया, कई बाते हमेशा की तरह दिल में आयी और दिमाग को मथने भी लगी लेकिन सभी की बधाइयां स्वीकार की। […]

Read the rest of this entry »

मोटी अदरक – पतली अदरक

चाय बनाने के लिये जैसे ही अदरक को हाथ में लिया ऐसा लगा कि किसी भारी भरकम पहलवान के हाथ का पंजा हाथ में आ गया हो। इतनी मोटी-ताजी अदरक! खैर चाय बन गयी, लेकिन अदरक का स्वाद कुछ खास नहीं आया। कल ही कोस्को ( costco) जाना हुआ, वहाँ अपने जैसी पतले पंजों वाली […]

Read the rest of this entry »

अजब लोग हैं हम

अजब लोग हैं हम अजब संयोग था, 31 अक्तूबर को अमेरिका हेलोविन का त्योहार मनाता है और भारत में इस दिन देव उठनी एकादशी थी। अमेरिका में हर घर सजा हुआ था, कहीं रोशनी थी, कहीं अंधेरा था लेकिन घरों में भूत-पिशाचों का डेरा था। हर घर में डरावना माहौल बनाया गया था, बच्चे भी […]

Read the rest of this entry »