अजित गुप्ता का कोना

साहित्‍य और संस्‍कृति को समर्पित

Archive for the 'Uncategorized' Category

देगची खदबदा रही है, फूटने का इंतजार भर

सेकुलर बिरादरी और मुस्लिम बुद्धिजीवी दोनों ही होच-पोच होने लगे हैं। अन्दर ही अन्दर देगची में ऐसा कुछ पक रहा है जिससे इनकी नींद उड़ी हुई है। महिलाएं आजाद होने की ओर कदम बढ़ाने लगी हैं। कभी तीन तलाक सुर्खियों में आता है तो कभी बुर्का! पुरुषों का अधिपत्य पर पत्थर फेंकना ही बाकी रह […]

Read the rest of this entry »

रौल विंसी इमेज खत्म करने के अखाड़े में

कौन कहता है कि राहुल गाँधी उर्फ रौल विंसी कमअक्ल हैं? हो भी सकता है कि कमअक्ल हों लेकिन इस गुड्डे में चाबी भरने वाला जरूर अक्लवान है। मतलब यह है कि दोनों में से एक तो चतुर है ही। अब रौल विंसी कह रहे हैं कि मोदी की ताकत उनकी इमेज है, मैं इसे […]

Read the rest of this entry »

यह कंकर वाली दाल है

मुझ जैसी महिला के लिये हर रोज सुबह एक नयी मुसीबत लेकर आती है, आप पूछेंगे कि ऐसा क्या है जो रोज आती है! सुबह नाश्ते में क्या बनेगा और दिन में खाने में क्या बनेगा, एक चिन्ता तो वाजिब ही है, क्योंकि इस चिन्ता से हर महिला गुजरती है लेकिन मेरी दूसरी चिन्ता भी […]

Read the rest of this entry »

मेरी अंगुली की स्याही ही मेरा लोकतंत्र है

एक जमाना था जब अंगुली पर स्याही का निशान लगने पर मिटाने की जल्दी रहती थी लेकिन एक जमाना यह भी है कि अंगुली मचल रही है, चुनावी स्याही का निशान लगाने को! कल उदयपुर में वोट पड़ेंगे, तब जाकर कहीं अंगुली पर स्याही का पवित्र निशान लगेगा। देश में लोकतंत्र है, इसी बात का […]

Read the rest of this entry »

सौगात किस-किस ने भेजी!

मैं चोरी-छिपे तुझे सौगात भेजूँ और तू है कि सबको ढोल बजाकर बता दे कि दीदी ने सौगात भेजी है! तू देख, अब मैं तुझे कंकर वाले लड्डू भेजूंगी। दीदी नाराज क्यों होती हो? कोई भी सौगात भेजे तो उसे बताने पर तो उसका सम्मान ही बढ़ता है ना! कहीं ऐसा तो नहीं है कि एक […]

Read the rest of this entry »